रिंकू सिंह ने गौतम गंभीर के नेतृत्व के ड्रेसिंग रूम के अंदर के दृश्य का खुलासा किया!


2024 के IPL सीजन में एक जानी-पहचानी ताकत का फिर से उदय हुआ है - सुनील नरेन की विस्फोटक बल्लेबाजी। त्रिनिदाद के इस ऑलराउंडर को मुख्य रूप से उनकी विनाशकारी गेंदबाजी के लिए जाना जाता है, उन्होंने ओपनर के रूप में टूर्नामेंट में तूफान मचा दिया है। यह बदलाव कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) की अब तक की सफलता का एक प्रमुख कारक रहा है, और रणनीति में इस बदलाव का श्रेय KKR के पूर्व कप्तान गौतम गंभीर को जाता है।



Rinku Singh And Sunil Narine (Image Credits: X/Twitter )


KKR के बल्लेबाज रिंकू सिंह ने हाल ही में खुलासा किया कि नरेन को ओपनिंग स्लॉट में प्रमोट करने का फैसला गंभीर के विचारों से प्रेरित था। यह रणनीतिक कदम बेहद कारगर साबित हुआ है। नरेन, जो वर्तमान में टूर्नामेंट में तीसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं, उनका औसत 46.00 और स्ट्राइक रेट 187.76 है। राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ उनकी हालिया पारी, सिर्फ 49 गेंदों पर एक धमाकेदार शतक ने उन्हें शीर्ष क्रम में एक प्रमुख ताकत के रूप में स्थापित किया।


सिंह ने नरेन की निरंतरता पर प्रकाश डाला और इस क्षमता को उजागर करने के लिए गंभीर की दूरदर्शिता को श्रेय दिया। उन्होंने नरेन के बल्लेबाजी दृष्टिकोण में बदलाव के बारे में विस्तार से बताया, उन्होंने कहा कि वह अपने शॉट चयन के साथ अधिक धैर्यवान और चयनात्मक हो गए हैं, जबकि पहले वह हर गेंद पर स्विंग करने की प्रवृत्ति रखते थे। इस नए अनुशासन के साथ-साथ उनकी कच्ची शक्ति ने उन्हें बल्लेबाजी में मास्टरक्लास बना दिया है।


हालांकि मौजूदा सत्र में गंभीर की सीधी भूमिका स्पष्ट नहीं है, लेकिन केकेआर सेटअप पर उनके प्रभाव को कम करके नहीं आंका जा सकता है। KKR के लिए दो बार IPL जीतने वाले कप्तान के रूप में, वह अपनी सामरिक तीक्ष्णता और आक्रामक नेतृत्व शैली के लिए जाने जाते हैं। सिंह की टिप्पणियों से पता चलता है कि गंभीर की रणनीतिक सोच अभी भी टीम के दृष्टिकोण को आकार दे रही है, यहां तक कि उनकी अनुपस्थिति में भी।


नरेन के साथ ओपनिंग करने के कदम ने न केवल KKR की बल्लेबाजी को मजबूत किया है, बल्कि शीर्ष पर एक महत्वपूर्ण बाएं हाथ का विकल्प भी प्रदान किया है। इससे दाएं हाथ के बल्लेबाज वेंकटेश अय्यर के साथ एक संतुलित ओपनिंग साझेदारी बनती है, जिससे गेंदबाजों के लिए लय में आना मुश्किल हो जाता है।


नरेन के बदलाव ने नेट पर उनके समर्पण और कड़ी मेहनत के लिए भी प्रशंसा बटोरी है। गंभीर की सामरिक दृष्टि ने भले ही शुरुआती जोश प्रदान किया हो, लेकिन उनकी तकनीक को निखारने और अधिक संयमित दृष्टिकोण विकसित करने का श्रेय नरेन के अथक प्रशिक्षण को जाता है।


हालांकि, नरेन के शतक के बावजूद राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ KKR की हालिया हार ने टीम को और बेहतर प्रदर्शन की जरूरत पर प्रकाश डाला है। नरेन के शामिल होने से उनकी बल्लेबाजी में निखार आया है, लेकिन उनके गेंदबाजी आक्रमण को लेकर सवाल बने हुए हैं, खासकर पैट कमिंस जैसे प्रमुख खिलाड़ियों की अनुपस्थिति में।


आगे की ओर देखें तो केकेआर अंक तालिका में दूसरे स्थान पर आराम से बैठा है। उनका अगला मुकाबला रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ है, जो वर्तमान में सबसे निचले पायदान पर है। यह KKR के लिए टूर्नामेंट में अपनी स्थिति मजबूत करने का सुनहरा अवसर है।


सीजन का बाकी हिस्सा देखना दिलचस्प होगा। क्या नरेन की अगुआई में KKR अपनी जीत की लय बरकरार रख पाएगा? क्या गंभीर का प्रभाव साइडलाइन से भी महसूस किया जाएगा? ये ऐसे सवाल हैं जिनका जवाब केवल समय ही देगा। लेकिन एक बात तो तय है - सुनील नारायण का एक प्रभावशाली IPL सलामी बल्लेबाज के रूप में रूपांतरण, रणनीतिक प्रतिभा और एक खिलाड़ी के अटूट समर्पण का प्रमाण है।

Post a Comment

और नया पुराने